Himachal Pradesh
13th Legislative Assembly ( Vidhan Sabha )
  • 27 देशों के प्रतिनिधियों ने देखी पेपर लैस विधान सभा की कार्यवाही। मुख्यमंत्री तथा विधान सभा अध्यक्ष से की मुलाकात।

    12/02/2019

          आज दिनांक 12 फरवरी, 2019 को 27 देशों के प्रतिनिधयों ने जो हिमाचल प्रदेश राज्य के अध्ययन प्रवास पर है अपराह्न 3:30 बजे सदन में दर्शक दीर्घा से कागज रहित विधान सभा की कार्यवाही को देखा। हिमाचल प्रदेश विधान सभा के माननीय अध्यक्ष डॉ0 राजीव बिन्दल ने सभी सदस्यों को अपने आसन से उनके देश के नाम से सम्बोधित किया तथा सदन में मौजूद सभी माननीय सदस्यों को इन प्रतिनिधियों की जानकारी दी । सदन में मौजूद सता पक्ष तथा विपक्ष के सदस्यों ने मेजें थपथपाकर इन प्रतिनिधियों का अभिवादन किया।

         इससे पूर्व इन प्रतिनिधियों ने विधान सभा के मुख्य कक्ष में‍ माननीय मुख्यमन्त्री हिमाचल प्रदेश श्री जय राम ठाकुर तथा हिमाचल प्रदेश विधान सभा के माननीय अध्यक्ष डॉ0 राजीव बिन्दल से मुलाकात की। इस अवसर पर प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए माननीय मुख्यमन्त्री श्री जय राम ठाकुर ने सदस्यों को हिमाचल प्रदेश के अस्तित्व तथा भारतीय गणराज्य में के राज्य के रूप में सामरिक महत्व की जानकारी दी तथा प्रतिनिधियों का शिमला पधारने पर स्वागत किया।

         प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए विधान सभा अध्यक्ष डॉ0 राजीव बिन्दल ने कहा कि 26 जनवरी  1950 को देश का संविधान लागू होने के साथ ही हिमाचल प्रदेश को पार्ट-सी0 राज्य का दर्जा दिया गया। जबकि मार्च 1952 में हिमाचल प्रदेश को लेफ्टीनेंट गर्वनर के अधीन लाकर 36 सदस्यों वाली विधान सभा का गठन किय गया। वास्तव में 1 जुलाई, 1963  को माननीय राष्ट्रपति की स्वीकृति उपरान्त केन्द्र शासित प्रदेश की विधान सभा के रूप में इसका गठन किया गया। 25 जनवरी, 1971 को हिमाचल प्रदेश भारतीय गणराज्य का 18वां राज्य बना तथा वर्ष 1971-72 के विधान सभा क्षेत्रों के  परिसिमन उपरान्त 68 विधान सभा क्षेत्र बनायें गये।

         उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश विधान सभा  देश की प्रथम कागज रहित विधान सभा है तथा ई-विधान प्रणाली क्रियान्वित करने वाली उदाहरणार्थ विधान सभा है। इस प्रतिनिधिमण्डल में अफगानिस्तान ,बोलिविया ,क्यूबा, इथोपिया, इराक, जॉर्डन, किनिया, लूथिनिया,  मॉरिशियस, मेयनमार, नामिबिया, नेपाल, निकारगुआ, पनामा पेरू, सेनेगल, सर्बिया श्रीलंका, दक्षिण सुडान, सुडान, तन्जानिया, थाइलैंड, टूनिशिया, उजबेकिस्तान, जांबिया तथा जिम्बावे आदि देशों के 37 प्रतिनिधि शामिल थे। इसके अतिरिक्त लोक सभा सचिवालय से BPST के निदेशक उपसचिव तथा अवर सचिव भी इन प्रतिनिधियों के साथ मौजूद थे। BPST निदेशक ने इस अवसर पर मुख्य मन्त्री तथा विधान सभा अध्यक्ष को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर इन प्रतिनिधियों ने कागज रहित तथा उच्च तकनिक मुक्त विधान सभा की प्रशंसा की तथा डॉ0 बिन्दल को ई-विधान प्रणाली लागू करने के लिए बधाई दी

         बैठक के दौरान अतिरिक्त मुख्य सचिव हिमाचल प्रदेश सरकार श्रीकांत बाल्दी तथा माननीय अध्यक्ष के निदेशक सूचना प्रोद्योगिकी श्री धर्मेंश शर्मा भी मौजूद थे।

    (हरदयाल भारद्वाज),
    उप-निदेशक,
    लोक संपर्क एवं प्रोटोकॉल, 
    हि0प्र0 विधान सभा ।