Himachal Pradesh
13th Legislative Assembly ( Vidhan Sabha )
  • प्रैस विज्ञप्ति

    31/08/2019

       मानसून सत्र के समापन अवसर पर सदन को सम्बोधित करते हुए हिमाचल प्रदेश विधान सभा के माननीय अध्यक्ष डॉ0 राजीव बिन्दल ने कहा कि इस सत्र के दौरान  कुल  11 बैठकें आयोजित हुई, सत्र में जनहित के महत्वपूर्ण विषयों पर प्रश्नों व अन्य सूचनाओं के माध्यम से चर्चा हुई व सुझाव दिए गये जिनके दूरगामी परिणाम होंगे। सत्र के दौरान माननीय सदस्यों ने विभिन्न चर्चाओं के माध्यम से प्रदेशहित के अनेक विषयों पर बहुमूल्य सुझाव दिए। इस सत्र के दौरान  कुल मिलाकर 527  तारांकित तथा  236 अतारांकित प्रश्नों की सूचनाओं पर सरकार द्वारा उत्तर उपलब्ध करवाए गए।नियम-61 के अन्तर्गत 11 विषयों, नियम - 62 के अन्तर्गत  12 विषयों,  व नियम-130 के अन्तर्गत 7 प्रस्तावों पर चर्चा हुई,  जिनमें माननीय सदस्यों ने सार्थक चर्चा की। इसके अतिरिक्त नियम 101 के अन्तर्गत 4 गैर-सरकारी संकल्प तथा पिछले सत्र में प्रस्तुत  संकल्प पर भी चर्चा की तथा माननीय सदस्यों ने अपने बहुमूल्य सुझाव दिये व संकल्प वापिस लिए गए।

       उन्होंने कहा कि 10 सरकारी विधेयक भी सभा में पुर:स्थापित एवं सार्थक चर्चा उपरान्त पारित हुए। नियम-324 के अन्तर्गत विशेष उल्लेख के माध्यम से 9 विषय सभा में उठाये गये तथा सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में वस्तुस्थिति की सूचना सभा व माननीय सदस्यों को दी गयी। सभा की समितियों ने भी 61 प्रतिवेदन सभा में प्रस्तुत एवं उपस्थापित किये। इसके अतिरिक्त भी कुछ माननीय सदस्य की सुचनाएं जिन पर समय के अभाव के कारण चर्चा नहीं हो सकी तथा कुछ एक सूचनाएं नियमों की परिधि में न आने के कारण अस्वीकृत की गयी। माननीय मुख्य मन्त्री और उनके मंत्रिमण्डल के सहयोगीयों द्वारा अपने-अपने विभागों से सम्बन्धित 7 वक्तव्य दिए गए तथा दस्तावेज सदन के पटल पर रखे  गए। उन्होंने कहा कि विधान सभा में ई-विधान स्थापित होने के उपरान्त विभाग द्वारा प्रश्नों के उत्तर के 20 सैट उपलब्ध करवाये जाते थे लेकिन अब यह विभाग से  Online ही लिए जाते है तथा इस बार माननीय सदस्यों को भी प्रश्न, कार्यसूची, प्रश्नों के उत्तर व सदन की अन्य कार्यवाही भी Online ही उपलब्ध करवाई गई तथा पहले प्रश्नों के 150 सैट मुद्रित करवाए जाते थे परन्तु अब 20 सैट विधान सभा में ही मुद्रित करवाए जा रहे है।  विधान सभा की समितियों का कार्य तथा अन्य कार्य भी लगभग Online हो गए है ऐसा आपके सहयोग से सम्भव हुआ है।

        उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त उन्होंने विधान सभा परिसर को बेहतर बनाने के निम्न प्रयास किए है:-

       1      मुख्य मन्त्री से मिलने आने वाले आगंतुकों के लिए अभ्यागत कक्ष  का निर्माण किया है। जिसमें LCD, शुद्ध पेयजल तथा शौचालय की    व्यवस्था  सुविधा का प्रावधान भी किया गया है।

     

       2     विधान सभा में आगंतुकों को मुख्य मन्त्री व मंत्रियों से मिलने के  लिए आधार युक्त फोटो (Digital Card)कार्ड  बनवाये तथा स्वागत कक्ष के पास नए शौचालय का निर्माण किया गया।

       3      माननीय सदस्यों व पत्रकार बन्दुओं को शुद्ध पेयजल के लिए  Special Dispenser लगवाये तथा इसके अतिरिक्त मिडिया बन्धुओं के लिए Extra Computer व आराम के लिए अलग कमरा उपलब्ध करवाया। इसके अतिरिक्त भविष्य में मिडिया बन्धुओं को स्थाई ID Card  उपलब्ध करवाये जाएंगे।

        4      प्रशासन व पुलिस Magistrate के लिए कमरे व  शौचालय  बनवाये।

        उन्होंने कहा कि इस सत्र की कार्यवाही को देखने के लिए 24 विभिन्न संस्थानों,स्कूलों व कॉलेजों से लगभग 794 विद्यार्थीयों  ने सत्र की कार्यवाही को देखा तथा इसके अतिरिक्त  23 प्रशिक्षु HAS(HIPA) भी सत्र की  कार्यवाही देखने आए। उन्होंने कहा कि सत्र के दौरान उनका भरसक प्रयास रहा कि सत्र की कार्यवाही सौहार्दपूर्ण वातावरण में चले जिसमें वह काफी हद तक कामयाब भी रहे। उन्होंने मुख्य मन्त्री श्री जय राम ठाकुर, नेता प्रतिपक्ष श्री मुकेश अग्निहोत्री  तथा  पूर्व मुख्य मन्त्री,  श्री वीरभद्र सिंह  के सहयोग के लिए भी धन्यवाद किया जिनकी वजह से वह इस माननीय  सदन  की कार्यवाही को सुचारू रूप से संचालन  कर पाये। उन्होंने माननीय संसदीय कार्यमन्त्री का भी धन्यवाद किया जिन्होंने सदन में दोनों पक्षों के बीच बेहतर समन्वय बनाए रखा। उन्होंने अपने सहयोगी माननीय उपाध्यक्ष, विधान सभा व सभापति तालिका के माननीय सदस्यों का जिन्होंने कार्यवाही के संचालन में बहुमूल्य सहयोग दिया का भी धन्यवाद किया।

       उन्होंने विधान सभा  सचिवालय के सचिव, समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों तथा राज्य सरकार के वरिष्ट् अधिकारियों एवं कर्मचारियों के सहयोग के प्रति भी आभार जताया जिन्होंने इस सत्र के दौरान दिन-रात कार्य कर विधान सभा सत्र से सम्बन्धित कार्य को समयवद्ध तरीके से निपटाने में पूर्ण सहयोग दिया।

        उन्होंने सूचना एवं जन संपर्क विभाग के तकनिशियन व प्रिंट एवं इलैक्ट्रोनिक मीडिया के मित्रों का भी धन्यवाद किया जिन्होंने विधान सभा की कार्यवाही को प्रदेश के जन-जन तक पंहुचाने में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

       उन्होंने माननीय सदन के समस्त सदस्यों का भी आभार व्यक्त किया जिन्होंने इस सदन की समय सीमाओं और नियमों का पालन करते हुए अपने-अपने विषयों को सदन में उठाया ।

    (हरदयाल भारद्वाज),
    उप-निदेशक,
    लोक संपर्क एवं प्रोटोकॉल, 
    हि0प्र0 विधान सभा ।