Himachal Pradesh
13th Legislative Assembly ( Vidhan Sabha )
  • विधान सभा अध्यक्ष ने दी प्रदेशवासियों को होली की बधाई।

    09/03/2020

       हिमाचल प्रदेश विधान सभा के माननीय अध्यक्ष श्री विपिन सिंह परमार  ने प्रदेश व देशवासियों को होली की बधाई देते हुए कहा कि होली भारत का एक अत्यंत प्राचीन पर्व है जो होली, होलिका या होलाका नाम से मनाया जाता है। बसंत ऋतु  में हर्षोल्लास के साथ मनाए जाने वाला रंगों का यह त्यौहार बसंतोत्सव और काम-महोत्सव के नाम से भी जाना जाता है। पहले दिन को होलिका जलायी जाती है जिसे होलिका दहन भी कहते है। दूसरे दिन जिसे प्रमुखत: धुलेंडी व धुरहड़ी, धुरखेल या धूलिवंदन  इसके अन्य नाम है लोग एक दूसरे पर रंग अबीर-गुलाल इत्यादि फैंकते है तथा ढोल बजाकर होली के गीत गाते है व एक दूसरे को मिठाईयां भी बांटते है । राग-रंग का यह लोकप्रिय पर्व बसंत का संदेशवाहक भी है।

       उन्होंने कहा कि देवभूमि हिमाचल मेलों व त्यौहारों का प्रदेश है जिसके कारण हमारा प्रदेश देश-विदेश में विख्यात है। मेले एवं त्यौहार हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के द्योतक हैं जो न केवल पारस्परिक सौहार्द को बढ़ाते हैं अपितु क्षेत्र विशेष की संस्कृति के प्रचार व प्रसार में भी सहायता करते हैं । राष्ट्र स्तरीय, राज्य स्तरीय होली मेला विगत कई वर्षों से मनाया जा रहा है तथा इसकी अपनी एक अलग ही पहचान है।

    (हरदयाल भारद्वाज),
    उप-निदेशक,
    लोक संपर्क एवं प्रोटोकॉल, 
    हि0प्र0 विधान सभा ।